कल कमर्शियल वाहनों का चक्काजाम, देहरादून समेत बड़े शहरों में थमे रहेंगे पहिए, परिवहन आयुक्त ने स्पष्ट की स्थिति

Share this news

DEHRADUN: उत्तराखंड परिवहन महासंघ के आवाह्न पर हरिद्वार जिले की करीब 45 विभिन्न कमर्शियल वाहनों की यूनियन और इनसे जुड़े करीब 20 हजार कमर्शियल वाहनों का 29 नवम्बर मंगलवार को चक्का जाम रहेगा। गाड़ियों के ऑटोमेटेड फिटनेस स्टेशन के विरोध और 10 साल पुराने वाहनों को सड़क से बाहर करने के निर्णय के बाद कोई सुनवाई न होने पर महासंघ के नेतृत्व में विधानसभा घेराव और चक्का जाम करने का निर्णय लिया गया। यानी मंगलवार को कमर्शियल वाहन, टैक्सी मैक्सी, ई रिक्शा, ऑटो विक्रम तथा अन्य कमर्शियल वाहनों के पहिये थमे रहेंगे। commercial vehicles to call chakkajam on 29 November in protest of automated fitness centres) इस बीचत परिवहन आय़ुक्त ने परिवहन संगठनों से जनहित को ध्यान में रखते हुए चक्काजाम में शामिल न हबोने की अपील की है।

दरअसल, गाड़ियों की फिटनेस सेंटर और 10 साल पुराने वाहनों को सड़क से बाहर करने के निर्णय के बाद कोई सुनवाई न होने पर महासंघ के नेतृत्व में विधानसभा घेराव और चक्का जाम करने का निर्णय लिया गया। महासंघ ने बड़े स्तर पर पूरे उत्तराखंड में चक्का जाम करने का निर्णय लिया। हरिद्वार में करीब 45 यूनियन महासंघ के चक्का जाम के पक्ष में आ गई है। विभिन्न यूनियन के पदाधिकारी चक्का जाम का समर्थन करते नजर आए। चक्का जाम के कारण स्थानीय निवासियों और हरिद्वार आने वाले यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ेगी चक्का जाम में लोगों को अपने स्तर से आवागमन करना पड़ेगा वही जो कमर्शियल वाहन चालक चक्का जाम के दौरान अपने वाहन संचालित करेगा उसके खिलाफ महासंघ कड़ी कार्रवाई करेगा।

उधर परिवहन आयुक्त अरविन्द सिंह ह्याँकी ने राज्य में स्थापित आटोमेटेड टेस्टिंग स्टेशन स्थापना के महत्व की परिकल्पना के संबंध में स्थिति स्पष्ट की है। ह्यांकी ने कहा कि परिवहन यान का समय-समय पर फिटनेस टेस्ट आर.टी.ओ / ए.आर.टी.ओ. कार्यालयों में तैनात आर.आई. (टेक्निकल) के द्वारा भौतिक तरीके से करते हुए फिटनेस सर्टिफिकेट निर्गत किया जाता रहा है। इस पद्धति के अंतर्गत आर. आई. (टेक्निकल) की दक्षता के साथ-साथ परीक्षण सम्बन्धी उपयुक्त उपकरणों की अनुपलब्धता सम्बन्धी व्यावहारिक कठिनाइयां भी रही है। उन्होंने बताया कि देश एवं प्रदेश के अंतर्गत यात्रियों, वाहन चालक एवं वाहन की सुरक्षा के साथ-साथ प्रदूषण नियंत्रण भी नित्य प्रति एक चिंता का विषय बनता जा रहा है। इस दृष्टि से वाहन का सही-सही परीक्षण करने हेतु तकनीक का प्रयोग अपरिहार्य हो गया है। परिवहन आयुक्त ने स्थानीय परिवहन व्यवसायियों से चक्काजाम में सम्मिलित न होने के लिए प्रेरित किये जाने की अपेक्षा की है।

 

(Visited 183 times, 1 visits today)

You Might Be Interested In