चारधाम यात्रा में अव्यवस्थाओं पर सीएम की अफसरों को फटकार, कहा सड़क मार्ग से ग्राउंड जीरो पर व्यवस्थाएं देखो

Share this news

DEHRADUN: चारधाम यात्रा में अव्यवस्थाओं की शिकायत को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गंभीरता से लिया है। चुनाव प्रचार छोड़कर सीएम धामी उत्तराखंड लौटे और चारधाम यात्रा की व्यापक समीक्षा की। इस दौरान सीएम ने कई अफसरों को फटकार लगाई। सीएम ने निर्देश दिए कि शासन और पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी सड़क मार्ग से ग्राउंड जीरो पर यात्रा व्यवस्थाओं को देंखें। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी पहली प्राथमिकता चारधाम यात्रा पर आने वाले सभी श्रद्धालुओं की सुरक्षा है।

मुख्यमंत्री ने सभी श्रद्धालुओं से अनुरोध किया है कि उनको चारधाम यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन के अनुसार जो तिथि मिली है, उसके अनुसार ही दर्शन के लिए आयें। उन्होंने सभी श्रद्धालुओं से स्वास्थ्य परीक्षण और मौसम का पूर्वानुमान देखने के बाद ही चारधाम यात्रा पर आने के लिए अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है कि चारधाम यात्रा भी सुरक्षित हो और सभी श्रद्धालु भी स्वस्थ और सुरक्षित हों। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि चारो धामों में 31 मई तक वीआईपी दर्शन की व्यवस्था स्थगित रखी जाय।

बिना रजिस्ट्रेशन नहीं आ सकेंगे चारधाम

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं के लिए चारों धामों में प्रतिदिन के लिए जो क्षमता निर्धारित की गई है, उसके अनुसार ही दर्शन के लिए भेजे जाएं। रजिस्ट्रेशन की व्यवस्थाओं को और मजबूत बनाया जाए। श्रद्धालुओं का चार धाम यात्रा हेतु रजिस्ट्रेशन होने पर ही चेक प्वाइंट से आगे जाने दें। परिवहन विभाग, राजस्व विभाग, पुलिस विभाग को संयुक्त रूप से चेक पोस्ट पर चेकिंग करने के निर्देश दिए। आगामी तीन दिनों तक ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन रोक दिए जाय।यह सुनिश्चित हो कि चार धाम यात्रा नियमों के अनुरूप ही चले। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि चारधाम के सभी मार्गों के एंट्री प्वाइंट एवं विकासनगर, यमुना पुल क्षेत्र, धनौल्टी, सुवाखोली में भी सख्ती से चेकिंग की व्यवस्था सुनिश्चित हो। इन स्थलों पर यात्रियों की सुविधा का भी पूरा ध्यान रखा जाए।

इससे पहले मुख्य सचिव की ओर से चारधाम आने वाले यात्रियों के लिए रजिस्ट्रेशन अनिवार्य किया गया है। दूसरे राज्यों के मुख्य सचिवों को भी चिट्ठी लिखी गई है कि अपने राज्यों से बिना रजिस्ट्रेशन के चारधाम न आने दें। मुख्य सचिव ने परिवहन विभाग को भी निर्देशित किया है कि रजिस्ट्रेशन चेक करने के बाद ही यात्रियों को ट्रिप कार्ड या आईडी जारी की जाए। इसके अलावा धर्मस्व सचिव को निर्देश दिए है कि मंदिर परिसरों में वीडियोग्राफी या रील बनाने पर प्रर्तिबंध लगाया जाए। मंदिर परिसर की 50 मीटर की परिधि में मोबाइल फोन का प्रयोग बैन किया जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि चारधाम यात्रा व्यवस्थाओं से सबंधित सभी जानकारियां लोगों तक स्पष्ट रूप से जाए इसके लिए शासन के वरिष्ठ अधिकारी प्रतिदिन मीडिया ब्रीफिंग करें। यात्रा से संबंधित सभी जानकारियां आमजन तक पहुंचाने के लिए मीडिया को उपलब्ध कराई जाए।  मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिये है कि चारधाम यात्रा के दौरान भीड़ प्रबंधन और यात्रा प्रबंधन पर विशेष ध्यान दिया जाए। उन्होंने पुलिस महानिदेशक को निर्देश दिये कि वे यातायात प्रबंधन और भीड़ प्रबंधन के लिए स्वयं स्थलीय निरीक्षण करें और चारों धामों में वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को इसकी जिम्मेदारी दी जाय। सभी अधिकारि सहयोगी के रूप में अपने दायित्वों का निर्वहन करें।

चारधाम यात्रा प्रदेश की लाइफ लाइन

मुख्यमंत्री ने कहा कि चारधाम यात्रा प्रदेश की लाईफ लाईन है। यह यात्रा राज्य की आर्थिकी से भी जुड़ी है। जिस तेजी से चारधाम यात्रा में श्रद्धालुओं की संख्या में वृद्धि हो रही है, हम सबका दायित्व है कि यात्रा को सुगम और सरल बनाने में सभी मिलकर सहयोगी बनें। व्यवस्थाओं को और बेहतर बनाने में राज्य सरकार द्वारा लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि चारधाम यात्रा मार्गों से जुड़े सभी जनपद यात्रा व्यवस्थाओं को सुदृढ़ करने के लिए समन्वय के साथ कार्य करें। मुख्यमंत्री ने सभी श्रद्धालुओं से अपेक्षा की है कि देवभूमि उत्तराखण्ड के इन धामों की धार्मिक यात्रा में स्वस्थ मानकों के अनुसरण पर भी ध्यान दें।

 

चारधाम यात्रा में अव्यवस्थाओं पर बिफरे सीएम धामी, अफसरों को लगाई फटकार

31 मई तक वीआईपी दर्शन पर रोक, चारधामों में अतिरिक्त पुलिस बल, होमगार्ड्स तैनात होंगे

बिना रजिस्ट्रेशन के नहीं हो सकेगी यात्रा, राज्यों के मुख्य सचिवों को लिखी चिट्ठी

 

(Visited 65 times, 1 visits today)

You Might Be Interested In