Ad banner
Ad banner

शारदीय नवरात्रि: टापू पर बसा माता गर्जिया का शक्तिधाम, प्रथम नवरात्रि पर कीजिए मां गिरिजा देवी के दर्शन

Share this news

गर्जिया माता का धाम रामनगर से 15 किलोमीटर दूर “सुन्दरखाल (Sunderkhal)” नामक गाँव में कोसी नदी के तट पर बसा है। गिरिराज हिमालय की पुत्री होने के कारण माता पार्वती के इस मंदिर को गिरिजा या गर्जिया मंदिर कह जाता है। (Garjia Mata Temple, Navratri Uttarakhand)

गर्जिया देवी को पहले उपटा देवी के नाम से भी जाना जाता था। वर्तमान गर्जिया मंदिर जिस टीले में है, वह कोसी नदी की बाढ़ में कहीं ऊपरी क्षेत्र से बहकर आया था। भैरव देव ने टीले को बहते हुए आता देखा| मंदिर को टीले के साथ बहते हुये आता देखकर भैरव देव ने कहा – “थि रौ, बैणा थि रौ” अर्थात् ‘ठहरो, बहन ठहरो’, यहाँ पर मेरे साथ निवास करो। तभी से गर्जिया में उपटा देवी यानी गर्जिया देवी निवास कर रही हैं। वर्ष 1940 से पूर्व यह क्षेत्र भयंकर जंगलों से भरा पड़ा था और उपेक्षित अवस्था में था कहा जाता है कि टीले के पास माँ दुर्गा का वाहन शेर भयंकर गर्जना भी किया करता था| कई बार शेर को इस टीले की परिक्रमा करते हुए भी लोगों द्वारा देखा गया है।

तब से यह क्षेत्र माँ के शक्तिस्थल के रूप में दूर-दूर तक विख्यात हो गया इसके बाद लोगों के सहयोग से यहां देवी माँ का मंदिर बन गया। जंगली जानवरों की भयंकर गर्जना के बावजूद भक्तजन इस स्थान पर माँ के दर्शनों के लिए तांता लगाये रहते थे। 1956 में कोसी नदी में बाढ़ के कारण मंदिर की सभी मूर्तियां बह गयी थीं सिर्फ गर्जिया माँ का श्री विग्रह (मूर्ती) ही शेष रह गयी थी । तब पण्डित पूर्णचन्द्र पाण्डे ने फिर से इसकी स्थापना कर मंदिर को भव्यता प्रदान की| इस मन्दिर का व्यवस्थित तरीके से निर्माण 1970 में किया गया। वर्तमान में इस मंदिर में गर्जिया माता की भव्य मूर्ति स्थापित है| इसके साथ ही यहां माता सरस्वती, गणेश तथा बटुक भैरव की भी प्रतिमाएं आकर्षण का केंद्र हैं| मंदिर परिसर में एक लक्ष्मी नारायण का भी मंदिर स्थापित है| इस मंदिर में दर्शन से पहले श्रद्धालु कोसी नदी में स्नान करते हैं| नदी से मंदिर तक जाने के लिये 90 सीढ़ियां चढ़नी पड़ती हैं| मनोकामना पूर्ण होने पर श्रद्धालु यहां घण्टे या छत्र आदि चढ़ाते हैं| नव-विवाहिताएं यहां आकर अटल सुहाग की कामना करती हैं| नि:संतान दंपति संतान प्राप्ति के लिये माता के चरणों में मत्था टेकते हैं. देवी मां की पूजा के उपरांत बाबा भैरव को चावल व उड़द की दाल चढ़ाकर पूजा की जाती है ।

(Visited 327 times, 3 visits today)

You Might Be Interested In