नेपाल में बादल फटा, पिथौरागढ़-नेपाल में 50 घर बहे, काली नदी में उफान से बढ़ गया खतरा

Share this news

PITHORAGARH: नेपाल के लासको गधेरे में बादल फटने से नेपाल के दार्चुला और पिथौरागढ़ के धारचूला क्षेत्र में भारी तबाही मची है। नेपाल के लास्को और पिथौरागढ़ के धारचूला, खेतिला गांव में दर्जनों घर बाढ़ और भूस्खलन की चपेट में आने से जमींदोज हो गए हैं। (50 house damaged as cloudburst in India Nepal border village ) काली नदी का जलस्तर खतरे के निशान तक आ गया है।

कल रात से हो रही भारी बारिश के बाद नेपाल के लास्को गधेरे में बादगल फट गया जिससे काली नदी विकराल रूप में आ गई। भूस्खलन और बारिश से खोतिला व्यासनगर के पास काली नदी में दो किमी लंबी झील बन गई। इसेस लास्को और खोतिला के नदी किनारे बसे करीब 50 से अधिक मकान जलमग्न हो गए। हालांकि ग्रामीणों को पहले से ही अलर्ट पर रखा गया था। इस वजह से ज्यादा जनहानि नही हुई है।

पिथौरागढ़ में एक बुजुर्ग व्यक्ति लापता है, जबकि नेपाल के क्षेत्र में हुई जनहानि का आंकलन नहीं हो पाया है। धारचूला क्षेत्र की मल्ली बाजार सड़क में पानी भर गया है तथा मलबे से सड़क पर खड़े कुछ वाहन मलबे में दबे हैं। थल- मुनस्यारी मोटर मार्ग हरडिया के पास बंद हो गया है। इसके अलावा धारचूला-गुंजी मार्ग, नजंग- लखनपुर मार्गभी जगह जगह बंद हो गए हैं। नेपाल में कुछ लोगों और करीब दर्जन भर वाहनों के बहने का अंदेशा जताया जा रहा है।

एसडीआरएफ, पुलिस राहत कार्य मे जुटे

काली नदी का जलस्तर खतरे के निशान यानी 890 मीटर पर पहुंच गया है।जल स्तर के डेन्जर लेवल पर पहुँचने से काली नदी के किनारे वाले क्षेत्र में खतरे की प्रबल सम्भावना बनी हुई है। लोगों को अतिरिक्त सतर्कता बरतत हुए खतरे वाले इलाकों से दूर रहने की चेतावनी जारी की गई है। काली नदी किनारे धारचूला नगर पालिका की गौशाला ध्वस्त हो गई जिसमें 5 मेवशी बह गए। नदी के उफान से यहां तटबन्ध बह गए और खोतिला का पुल भी बह गया। सूचना मिलते ही आपदा प्रबंधन, राजस्व दल, एसडीआरएफ, पुलिस राहत कार्य मे जुटे है। हेलीकॉप्टर से राहत सामग्री खोतिला पहुचाई जा रही है। प्रभावितों को सुरक्षित स्थानों पर पहुचाया जा रहा है।

(Visited 551 times, 1 visits today)

You Might Be Interested In