रैंप से दौड़ते हुए तीसरी मंजिल के इमरजेंसी वार्ड के भीतर पहुंचा पुलिस वाहन, छेड़छाड़ के आरोपी को किया अरेस्ट

Share this news

RISHIKESH:  एम्स ऋषिकेश लगातार चर्चाओं में बना है। यहां काम करने वाली महिला डॉक्टर ने नर्सिंग ऑफिसर पर ऑपरेशन थिएटर के भीतर छेड़छाड़ का आरोप लगाया है जिसके बाद रेजिडेंट डॉक्टर प्रदर्शन कर रहे हैं। लेकिन उस वक्त एम्स प्रशासन, वहां भर्ती मरीज और तमाम लोग हैरान रह गए जब आरोपी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस फिल्मी स्टाइल में अपना वाहन लसेकर इमरजेंसी वार्ड में घुस गई। एम्स के इतिहास में ऐसी पहली घटना घटी, जिससे हर कोई हैरान है।

दरअसल एम्स में एक नर्सिंग ऑफिसर ने ऑपरेशन के दौरान महिला चिकित्सक से छेड़खानी की। इसके विरोध में आरोपी को गिरफ्तार कर उनके सामने से ले जाने की मांग को लेकर रेजिडेंट डॉक्टर लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। मामला बढ़ा तो पुलिस आरोपी की गिरफ्तारी के लिए एम्स पहुंची। लेकिन पुलिस जिसतरह फिल्मी स्टाइल में तीसरी मंजिल के इमरजेंसी वार्ड में वाहन समेत पहुंच गई उसे देखकर हर कोई हैरान हैं।

वीडियो में देखा जा सकता है कि आरोपी को हिरासत में लेने के लिए पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। पुलिस का वाहन एम्स के रैंप से होते हुए तीसरी मंजिल पर मौजूद इमरजेंसी वार्ड के भीतर घुस गया। पुलास का वाहन जैसे ही मरीजों के बेड के बीचोंबीच होते हुए वहां पहुंचा तो मरीजों में अफरा तफऱी मच गई। पुलिस ने वार्ड से ही आरोपी को हिरासत में लिया और फिर बेड को खिसकाकर जीप को बाहर निकाला गया। आरोपी डॉक्टर के खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर कोतवाली ले गई है।  लेकिन पुलिस की इस कार्रवाई का वीडियो सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना हुआ है।

सिंघम स्टाइल में हुई पुलिस कार्रवाई की जहां कुछ लोग तारीफ कर रहे हैं तो इस पर सवाल भी उठ रहे हैं। इमरजेंसी वार्ड के भीतर जहां दो तीन तीमारदारों के अलावा मरीज के साथ अन्य लोगों को नही रुकने दिया जाता, वहां पुलिस का वाहन गरजता हुआ बेड से होकर गुजरता है। इससे मरीजों की जान को भी खतरा हो सकता है। सरेआम मय वाहन वार्ड के बीच जाने से अस्पताल प्रशासन की गोपनीयता भी भंग हुई है। देखना होगा कि क्या एम्स प्रशासन इस पर कोई आपत्ति दर्ज कराता है।

महिला डॉक्टर से हुई थी छेड़छाड़

घटना सोमवार शाम सात बजे की है। बताया जा रहा है कि जनरल सर्जरी विभाग के ऑपरेशन थिएटर में दो महिला चिकित्सक व एक पुरुष चिकित्सक के साथ ही एक पुरुष नर्सिंग ऑफिसर सतीश कुमार मौजूद थे। ऑपरेशन के दौरान नर्सिंग ऑफिसर सतीश कुमार ने एक महिला चिकित्सक को छेड़ने का प्रयास किया। आरोप है कि उसने महिला चिकित्सक को व्हाट्सएप पर अनुचित मैसेज भी भेजे। इतना ही नहीं, आरोपी ने फांसी लगाने संबंधी स्टीकर भेजकर मानसिक उत्पीड़न और डराने का प्रयास भी किया। पीड़ित महिला चिकित्सक ने इस संबंध में सोमवार देर शाम ही एम्स प्रशासन के साथ पुलिस चौकी में लिखित शिकायत दर्ज कराई। मंगलवार दोपहर तक कोई कार्रवाई न होने पर आक्रोशित जूनियर रेजीडेंट व सीनियर रेजीडेंट डाक्टरों ने परिसर में प्रदर्शन शुरू कर दिया। इन चिकित्सकों की मांग थी कि आरोपी को गिरफ्तार कर उनके सामने से ले जाया जाए। चिकित्सकों ने आरोप लगाया कि आरोपी को बचाने का प्रयास किया जा रहा है। इसके लिए ऑपरेशन थिएटर की उपस्थिति रजिस्टर में छेड़छाड़ की गई। हालांकि, पुलिस ने प्रदर्शन के बीच देर शाम करीब साढ़े पांच बजे आरोपी सतीश कुमार को हिरासत में लिया।

 

(Visited 185 times, 1 visits today)

You Might Be Interested In